Latest News

my image

भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान में हिंगला नदी के पास देवी हिंगलाज माता का मंद‌िर है जो शक्तिपीठ के रूप में जाना जाता है।  हिंगलाज देवी के विषय में ब्रह्मवैवर्त पुराण में कहा गया है कि जो एक बार माता हिंगलाज के दर्शन कर लेता है उसे पूर्वजन्म के कर्मों का दंड नहीं भुगतना पड़ता है।  मान्यता है कि परशुराम जी द्वारा 21 बार क्षत्रियों का अंत किए जाने पर बचे हुए क्षत्रियों ने माता हिंगलाज से प्राण रक्षा की प्रार्थना की थी। माता ने क्षत्रियों को ब्रह्मक्षत्रिय बना दिया इससे परशुराम से इन्हें अभय दान मिल गया। यहां माता के भक्त उसी प्रकार देवी की पूजा करते हैं जैसे भारत में माता के भक्त वैष्‍णो देवी की पूजा करते हैं। लेक‌िन यहां भक्तों की संख्या कम रहती है।

Recent Post